MLM Harkhabar - MLM Hindi News Portal, MLM India, MLM Marketing, MLM Promotion MLM HarKhabar

Thursday, 31 July 2014

Mangalam के एजेंट ने कर ली आत्महत्या

कोलकाता: सारधा चिटफंड घोटाला प्रकाश में आने के बाद से चिटफंड कंपनियों में निवेश करनेवाले कई निवेशक एवं एजेंट आत्महत्या कर चुके हैं. यह सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है. अब दक्षिण 24 परगना के फलता इलाके में एक चिटफंड एजेंट ने आत्महत्या कर ली है. 

Financial Education Workshop का आयोजन

उड़ीसा/झारसुगुड़ा : गत सोमवार को इंदिरा देवी सुल्तानिया मेमोरियल इंस्टीटयूट सेवी की ओर से वित्तीय शिक्षण कार्यशाला आयोजन किया गया। इस दौरान महिलाओं व युवतियों को बताया गया कि आज के समय में पैसे का उपयोग किस तरह से किया जाए और कहां पैसा जमा करने से वह सुरक्षित रहेगा। 

अध्यापिका इंदु बक्सी ने बताया कि सही जानकारी न होने से कई मर्तबा हम अपनी मेहनत की कमाई चिटफंड कंपनियों दिखाए गए सब्जबाग में फंसकर उनके पास जमा कर देते हैं और कुछ समय बाद वह संस्था या चिटफंड कंपनी भाग जाती है, जिससे हमारा पैसा डूब जाता है। 

अब नहीं भाग सकेंगी चिटफंड कंपनियां, समिति गठित

भोपाल। प्रदेश के नागरिकों के खून-पसीने की कमाई समेटकर भागने वाली चिटफंड कंपनियों से निपटने के लिए सरकार ने कमर कस ली है।राज्य सरकार ने ऎसी कंपनियों की कार्यप्रणाली पर नजर रखने के लिए मुख्य सचिव की अध्यक्षता में एक समिति गठित की है। इसमें 15 सदस्य होंगे।

चिटफंड कंपनियों के आफिस में छापामार कार्रवाई

मध्यप्रदेश/सीधी । जिला मुख्यालय में संचालित चिटफंड कंपनियों के ऑफिस में बुधवार को गोपद बनास एसडीएम शैलेन्द्र सिंह , मझौली एसडीएम , चुरहट एसडीएम नेदबिश देकर कार्रवाई की है। खास बात तो यह हैं कि छापामार कार्रवाही में पुलिस बल भी तैनात थे।

Wednesday, 30 July 2014

नया खुलासा, Parivar Dairy के संचालक ने खोला परिवार अस्पताल

ग्वालियर।पीएमटी सरगना दीपक यादव के हाजिर होने के बाद परिवार अस्पताल से
उसकी साझेदारी खत्म होने के दस्तावेज अस्पताल संचालक डॉ. मनोज गुलाटी ने पेश किए हैं, लेकिन माफिया दीपक ने अस्पताल की नींव पड़ने के तरीके का खुलासा कर एसआईटी को भी चौंका दिया है।


एसआईटी सूत्रों का कहना है दीपक के तार 2 हजार के इनामी रहे चिटफंड कंपनी परिवार डेयरी के संचालक राकेश नरवरिया से भी जुड़े मिले हैं। दीपक ने परिवार अस्पताल को चिटफंडी राकेश नवरिया की संपत्ति बताया है। 

5 और चिटफंड कंपनियों की होगी जांच, लिस्ट देखें

रायगढ़। चिटफंड कंपनियों के खिलाफ शिकंजा कसते हुए प्रशासन द्वारा पांच और कंपनियों के क्रियाकलापों की जांच हेतु पुलिस अधीक्षक को पत्र भेजा गया है। पूर्व में चार चिटफंड कंपनियों की जांच हेतु पुलिस अधीक्षक को लिखा जा चुका है। इस तरह से अब नौ कंपनियों के खिलाफ जांच होगी।

Tuesday, 29 July 2014

सेबी ने Nicer Green Housing & Infrastructure Developers Ltd पर लगाया प्रतिबंध



उच्च रिटर्न का वादा कर गलत तरीके से लोगों से धन जमा करने की योजना के खिलाफ कार्रवाई करते हुए सेबी ने Nicer Green Housing and Infrastructure Developers Ltd (NGHDL) तथा उसके निदेशकों पर लोगों से किसी प्रकार का धन जुटाने तथा नई योजना शुरू करने को लेकर सोमवार को प्रतिबंध लगा दिया।


कंपनी अपनी योजना के जरिये भूखंड के विकास के लिये लोगों से धन ले रही थी। भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) ने अपने आदेश में कहा कि एनजीएचआईडीएल अधिक रिटर्न का वादा कर जो धन संग्रह कर रही थी, वह प्रथम दृष्टया सामूहिक निवेश योजना के दायरे में आता है।

IPS को चिटफंड निदेशक के कहने पर फंसाने का मामला विधानसभा में गूंजा


IPS AJAY SINGH
जयपुर. प्रदेश के सवा दो लाख लोगों से 65 करोड़ रुपए से अधिक की धोखाधड़ी करने वाली चिटफंड कंपनी से मिलीभगत कर आईपीएस अजय सिंह को एसीबी के दो अफसरों की ओर से फंसाने का मुद्दा सोमवार को विधानसभा में जोरशोर से उठा। बसपा विधायक मनोज सिंह न्यांगली ने यह प्रकरण सोमवार को शून्यकाल के दौरान विधानसभा में उठाकर सबका ध्यान आकर्षित किया।



न्यांगली ने कहा कि आईपीएस अजय सिंह को एसीबी के दो अफसरों ने चिटफंड कंपनी के निदेशक से मिलीभगत कर झूठा फंसाकर राजस्थान में एक बड़ा कलंकित कार्य किया है।

Gitanjali Udyog का निदेशक कोलकाता से गिरफतार

पोर्ट ब्लेयर- अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह की पुलिस ने चिंटफंड कंपनी गीताजंलि उद्योग के निदेशक को लोगों के साथ धोखाधडी करने के आरोप में कोलकाता से गिरफतार किया है। दक्षिण अंडमान के पुलिस अधीक्षक अतुल कुमार ठाकुर ने बताया कि निवेशकों को ठगने के बाद चिटफंड कंपनी का निदेशक अचानक गायब हो गया था। पुलिस ने निदेशक के ठिकाने का पता लगा कर कोलकाता से उसे गिरफतार कर लिया।

Monday, 28 July 2014

सेबी ने पोंजी योजनाओं के खिलाफ अभियान तेज किया

भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) ने निवेशकों को धोखाधड़ी वाली धन संग्रह योजनाओं से बचाने के लिए इन इकाइयों के खिलाफ कार्रवाई तेज कर दी है। हालांकि, नियामक को इस तरह की धोखाधड़ी पर अंकुश के लिए संसद से और अधिकार मिलने का इंतजार है। अभी तक इस वित्त वर्ष में अवैध धन जुटाने की योजनाओं या अनधिकृत तरीके से प्रतिभूतियां जारी कर धन जुटाने वाली कम से कम 28 कंपनियों के खिलाफ सेबी ने कार्रवाई की है। इनमें से 10 मामलों में तो आदेश इसी महीने जारी किया गया है।

Social Subscription!!